मेरी भी एक कहानी! – Saurabh

ये कहानी है उस दौर की..जब कॉलेज में २ कंपनियां आके चली गयीं थी…और मेरा प्लेसमेंट अभी नहीं हुआ थाहौसला बढ़ाने के लिए घर पर माँ थी ..और महीने में एक बार फोन करके पैसे हैं कि नहीं पूछने वाले पिताजी भी..पर मैं उन्हें अपनी मनोदशा बताना नहीं चाहता था ..हाँ एक और भी तो …

मेरी भी एक कहानी! – Saurabh Read More »