Poem

छोड़ गई – Johnson Hasda

School time love story

तू छोड़ गई तो क्या हुआ ज़िंदा अभी भी हूँ हँसता अभी भी हूँ, तू साथ नहीं है तो क्या हुआ खुश अभी भी हूँ तू चली गई ना मुझे छोड़ के तो क्या हुआ, बेपरवाह अभी भी हूँ, जाने…
Read more

क्या तुम्हें याद है ? – Kafir

Romantic hindi poem

क्या तुम्हें याद है ? जब तुमने कहा था कि ” अब तुम्हारी बाहें जकड़ने लगी है मुझे “ और मैंने खोल दी थी अपनी बाहें हमेशा के लिए.! अब… फिर, जब की तुम्हें किसी के बाहों में सूकूं ना…
Read more