Long distance love story

2019..aur unki, hamari ye mohbbt bhari najare ..(jaana meri💕)

Hlo dost mai bindu.. up mirzapur se hu,
Phil bar kuchh post kr rha hu, jo ki mera hi khud ka fist love, yani ki ek story,
Ye story TB ki h jb mai 10th me tha
Yahi se meri kahani start hoti h ……to mai hmesa ki tarh roj mai subah subah tahlne jata tha daily ‘esi bich ye karar ho gya unse pyar yarr’, to ek subah etefak tha shayad vo dikhe unki smile kya khoob thi mano jaise muskurata huwa koi kali ho smile achhi lgi bs aisa kuchh nhi tha
Fir kuchh din bad aisa hua….

Start…….. ….mai apne exam ki taiyari me lga tha, pdai kr rha tha 2019 me January month ke start me mai ghar ke bahar ground me chair lga kr dhup sekte huye pdai kr rha tha, aur vo apne chhat ke sidi ke pas baith kr vo bhi pdai kr rhi thi, us din fist day tha aur mujhe bar bar dekhe ja rhi thi, mujhe ajib lga ki vo ladki akhir kyu dekh rhi h , mai jaha baitha tha vha ki dhoop chala gya tha to mai thoda chair apna age bada liye mujhe vo ab nhi dikhae de rhi thi, achank vo dikhae di mai san rh gya trust me yarr , vo mujhe dekhe ja rhi thi, Jaha vo baith kr pdai kr rhi thi, vha se mai dikhae nhi de rha tha, vo tahl kr ghum-ghum kr hath me liye book hame dekhe ja rhi thi, mujhe bhi kuchh hone lga uske es hav bhav me mai bahkne lga unki njro ne aisa jadu kiya, jo bhi ho pr uski smile kamal ki thi, mai uske tarf dekhta tha to turnt hi smile kr deti thi, shayad mujhe bhi kuchh- kuchh hone lg gya tha bhai, o bhi like krti thi aisa lga tha mujhe, mai ye janta tha pr use bola nhi bs aisa hi chalta chala gya taka-jhaki maine chaha tumhe labjo me btana pr khamoshiyo me na keh paye apne hale dil ki aur vo bhi samjhe nhi khamoshi kya chij hai”100 bar socha ja kr keh du I love u.. usse pr sapne toot Jane ka dr kabhi dil se gya hi nhi”,
Dosto meri jaana h n meri nakl bahut karti hai, jb vo meri tarf dekhti hai to n kya btau yarr bahut ajib sa feel hota h , o chehra uski smile mujhe bahut (cute )achhi lgti hai, or pdai nhi ho pta tha yarr bs uski khyalo me hi rha aur o dikh jati to bahut khush ho jata tha yani ki unko dekhe bina ab chain kaha pata tha,
…10 ka exam complete ho chuka tha aur mai 11th me admission le liya tha aur vo 10th me thi, hum dono ek hi college me study karte the to hum logo ka class chalta tha, agr nhi chalta tha to hum friends ke sath ground me moj krte huye time pass karte the , vo bhi college jati thi to hamare tarf mujhe dekhne ke liye jarur aati thi, jb tk use mai nhi dekh leta tha vh vha se nhi jati thi,
Ek bar mai apni njr se dekh leta tha to vh vha se apni tarf chali jati thi , ladkiyo ke ground ki tarf mai ek bar college gya tha pr us din mai bhul gya tha dosto ki bato me thoda, sb ek jgh field me baith kr bate kr rhe the, tbhi ek frnd bola ki bhai vh aap ki jaana aa rhi hai edhar hi maine dekha aur vo chali gyi , aur vo daily morning me coaching jati thi, subah subah mai usse pahle hi mai sadak ke pas uske aane ka entjar krta aur o aati mai dekhta o smile karti apni cycle ki rftar se nikl jati thi ,
Ye pahli aisi ldki hai jo mai bepanaah mohhbt karta hu, ek din uske big sister ki bidai tha vh us din gjb ki roe yarr ki mai bhi thoda sad tha us din kyuki vo RO rhi thi n esliye , bahut jor- jor se ro rhi thi mza hi aa gya aise ro rhi thi kya bta yaro mujhe dekh dekh kr , kya btaye ye story Khatam hi nhi hoti h , wo mujhe mili nhi, maine usse bat bhi nhi ki es story ka end n hua n hoga…
NEXT PART……..” tu yaad kar ya bhul ja tu yaad hai ye yaad rakh” 🙂

Do you have a story? Click here to submit it / Connect with the admin

18 thoughts on “2019..aur unki, hamari ye mohbbt bhari najare ..(jaana meri💕)”

        1. Koi baat nahin…
          Gar nahin jaana tOh.
          Lo phir jaankari lelo
          Main rohan singh from
          Hyderabad aur mera kaam hai
          Chemical engineering ka business, aur mujhe singing pasand hai aur tv dekhna gussa zada hona 😅 aur baat baat par haq chalana ye meri kamzori hai lol 😂….ye h mra data……😅😅😅😅

          Oll bataO…aap?

  1. उस इंसान ने खुद को दुनिया से कोशों दूर, अपने आपको एक जगह स्थिर कर लिया था। लगभग 30 साल की उम्र में अभी शादी के बंधन से अछूत था। लेकिन उसके दोस्तो की जिंदगी उससे बेहद अलग थी, उनकी शादियां हो चुकी थी और अपनी खूबसूरत बीबियों के साथ वह सभी ज्यादा व्यस्त रहने लगे थे। इस तरह से अब वह नवयुवक बेहद अकेला हो चुका था।

    घर में मोनू नाम की पुकार उसे अपनें खोए हुए खयालों से बाहर नहीं निकाल पाती थी। लेकिन घर के दूसरे कामों के लिए उसे अपने नाम को पहचानना पड़ता था, और सुनकर दिए गए कामों को पूरा करना पड़ता था।

    उसके साथ बहुत सारी परेशानियां थी जिससे वो बिना किसी से कहे खुद के अंदर एक नुकीली सुई के दर्द के समान सह  लेता था। इसी बीच मोनू की जॉब छूट गई थी, और दूसरी नौकरी की तलाश से उसका मन भर चुका था। इस कारण उसका जाड़ा समय घर में कैद रहकर ही बीतता था। उसकी दिनचर्या थोड़ी अटपटी थी बेड से उठने तक से हिचकिचाता रहता था और वह काफी आलसी भी था। लेकिन कुछ समय बाद उसने राइटिंग का काम सिख कर घर पर ही वर्क फ्रॉम होम करने का फैसला लिया और बाद में उसने इस काम को अपना प्रोफेशन भी बना लिया।

    लेकिन उसकी इतनी इनकम नही हो पाती थी कि अपनी लाइफ में किसी लाइफ पार्टनर को जोड़ सके। इधर 30 साल की उम्र उसके मनो जहन में तेजी से फैलती आग की तरफ बढ़ती जा रही थी। उसकी इस दशा का चित्रण कर पाना थोड़ा मुश्किल है क्योंकि उसका हाल पागलों से भी बदतर हो चुका था।

    उसका एक दोस्त था जोकि उसके काफी करीब था। ना जाने उसे क्या सूझता था अपनी शादीशुदा जिंदगी का वो रसीला राज व्हाट्स एप के इनबॉक्स में पूरा कह डालता था।  मोनू पहले से ही अपने बेहाल जिंदगी के साथ खुद में उठ रही मदहोशी भरी इच्छाओं को दबाने में व्यस्त रहता था, ऊपर से यह रसीला राज पढ़कर उसके रोम रोम एक प्यासे जानवर की तरह व्याकुलता के बुलबुले उठने लगते थे।

    अब इस हाल को उसकी गलती कहें या फिर उम्र का पड़ाव, दोनो ही पाठको की सोच पर निर्भर है।

    क्यूं  ना कोई उसकी इस मनोदशा पर सिसक उठे ?

    मोनू दिन भर अपने वर्क फ्रॉम होम में व्यस्त रहने की हर संभव कोशिश करता था, लेकिन रात तक इतना थक जाता था कि दीमाक पर और ज्यादा जोर डालना उसके बस से बाहर हो जाता था। ऐसे हाल में वह अपने व्याकुलता के अहसास में धीरे धीरे डूबने लगता था और खुद के हाल को अपने अंदर रुह तक महसूस कर, बेवजह ही रोने लगता था। हालाकि उसके रोने की आवाज नहीं सुनाई देती थी। लेकिन उसकी आंखो से गिरती बूंद का कतरा, सब राज कह देता था।

    मोनू हर रात खुद को अपने बिस्तर पर इतना तन्हा महसूस करने लगा की उसकी बेचैनिया ही उसका दर्द बनने लगी थी। बेड पर लेटे उसका हाल इस तरह होता कि, बेचैनी के साथ उसकी सांसों की आवाज शांत माहौल में साफ साफ सुनाई देती थी। उसकी नजर बस घड़ी के 11 बजे से लेकर रात 2 बजे  के बीच होने वाले टाइम पर ही रहती थी। इस लंबे टाइम के दरमियान वो हजारों करवटें बदलता रात करता था।  और अपने शरीर में होने वाली हर रोज की हलचलों को महसूस करता पागल होने की कदार तक पहुंच गया था।

    मोनू के इस हाल से पहले उसके साथ अनेकों घटनाए घटी थी जोकि सभी बस आनलाइन दुनिया से जुड़ी थी, आज भी उसके हाल अनकहा है जिसे कोई नही समझ सकता।

    What’s App 8920359912.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *