खुद से रूठ था और चल रहा था मैं – Raushan

खुद से रूठा था और चल रहा था मै.
गिर गया था उसके दर पे और संभल रहा था मै.
ख्वाहिशे थी कांच के जैसी कुछ इस कदर .
धूल चेहरे पर थी और आईना बदल रहा था मै.!!

उनकी यादो का था ऐसा कुछ असर.
अपनी जिंदगी से आगे निकल रहा था मै.
ख्वाब जो भी थे इस दिल मे कैद बावजह.
इश्क़ के आग मे यूँ हि जल रहा था मै.!!

सोचा की भूल जाऊँ उस गुज़रे हुए पल को.
और उनके शहर से निकल रहा था मै.
थी नाराज़गी इस बात से की झूठ उनका था और यकीं मेरा.
वो तो बेवफा निकले इश्क मे दगा करके.
और उनकी उम्मीद लिए चल रहा था मै.!!

अब वो किसी और के है तो क्या हुआ.
वक़्त के साथ धीरे धीरे बदल रहा था मै.
खुद से रूठा था और चल रहा था मै..
बस यु ही अपनी दुनिया बदल रहा था मै.!!

This is your admin Sunil Gupta, Please follow me on Instagram and Whatsapp: 7065637638 (Ye kisi Ladki ka number nahi hai 😀 :P) for questions and complaints.

Comments

comments

12 Comments

  1. Prince

    Very Nice Poem.

    Hey there! It’s me, Prince here. I feel myself so lonely because, I don’t have any friends. If Any Boy or Girl, Who needs A Good & Faithful Friend and Would like to Friendship with me? So, Please WhatsApp/Message me on +919199007192. Only Serious Persons are allowed, Arrogant People & Time-Passers Stay Away.

    Reply
  2. Naina

    osm poem yalll
    apki har poem heart touching hoti h
    sidhe dil ko ja lgti h
    itni pyari hoti h ki
    word hi nhi milte mtlb jitna bhi bolu kam lgta h

    Reply
    1. raushan

      तारीखे आज भी गवाह है मेरे कत्लेआम की.
      मैं वो इतिहास हूँ जो कभी पढ़ा ही नही गया!!
      Thanx for this [email protected]

      Reply
      1. Naina

        u wlcm ji
        n
        wah wah nice line
        pal ye glt h qki hum to apke itihas apke har poem Me read karte aa lhe h
        hehehe

        Reply
  3. zainab

    Nice one

    Reply
  4. raushan

    Thanx!!

    Reply
  5. Pratiksha

    Gajab roshan ji jab b poem likhte ho kamal kr dete ho bbahut super Poem hoti hai apki kaha se late ho aise jajbat jo direct dil ko chu jate hai

    Reply
    1. Raushan

      Thanks ji..
      बस यु ही हम अपने लफ़्ज़ों को हवा देते है..
      दिल के जज़्बातों को बस यु ही जगा लेते है!!

      Reply
  6. Alone girl

    Bhot achi poem likhi hai apne..raushan😊😊

    Reply
    1. sandeep

      Thank you

      Reply
  7. raushan

    mere poems ab copy kiye jaa rhe hai admin k dwara..ab yha mai nhi aaunga…thanx!!
    मैं और मेरी बेपनाह इश्क़ poem meri chura liye hai admin ne…

    Reply
  8. Siddhartha verma

    You should download ‘yourquote’ app becuz ur writings are awesome

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *