Poem

अब लौट आ यार सोना – Babulal Jakhar

अब लौट आ यार सोना

ऐ सोना ,अपने दिल से पूछो ज़रा,क्या आज भी ये हमारा नही.. तुम चाहे लाख मुँह मोड़ लो पर तेरे दिल को ये गवारा नही… अगर तुम ना जाती हमको ऐसे बीच रास्ते मे छोड़कर,कसम खुदा कीें तो मैं फिरता…
Read more