Monthly Archive: January 2017

“मधुमालती” -दीपक कुशवाहा

मंझन प्रेमार्गी (सूफी) शाखा के कवि है | जिनके संबंद में कुछ भी ज्ञात नहीं है | केवल इनकी रची हुई “मधुमालती” की एक खंडित प्रति मिली है | इस कहानी का सरांस निम्न है | कनेसर नगर के राजा…
Read more