Monthly Archive: December 2016

Kuch Kahi Ankahi Dastan -Mahesh Maurya

Kuch kahi ankahi daastan पार्ट>>>1 मुझे आज भी अच्छी तरह याद है स्कूल का पहला दिन,महात्मा गांधी मेमोरेयल स्कूल की दूसरी मंजिल का बो क्लास। बड़ी सी बिल्डिंग बड़ा सा मैदान हजारों की संख्या मे लड़के लड़कियां ऐसे जैसे कोई…
Read more

लिहाफ़ -Rahul Khandalkar

इतने सालों के साथ के बाद इतना तो मैं समझ सकता था कि कोई तो बात जरूर है कि कभी कभी रीना अपनी किसी ख्याली दुनिया में अक्सर गुम हो जाती है। हाँ, वैसे शिकायत नहीं कोई मुझे उससे। पर…
Read more