वो अब याद नहीं करते – Raushan

वो अब याद नहीं करते.
चाहत तो होती है मिलने की.
बस फरियाद नहीं करते.
वादा किए थे साथ चलने का.
बस वो इरशाद नहीं करते.
लगता है मुझे भूल बैठे हैं वो.
क्योंकि वो अब याद नहीं करते.!!

वक्त भी थमता नहीं उनके बगैर.
मंजिल भी धूमिल हो रही अब.
जिसे थी एक आशियां बनाने की आरजू.
वो उसे आबाद नहीं करते.
बेतहाशा चाहत है उन्हें पाने की.
बस वो फरियाद नहीं करते.
ऐसा लगता है खो गए वो इस दुनिया की भीड़ में.
क्योंकि वो अब याद नहीं करते.!!

जिनके साथ हर पल खुशियां ही खुशियां रहती थी.
हर लम्हा उनकी आरजू होती थी.
जो एक खुदा सा था मेरे लिए.
चाहत जिसे पाने की हर वक्त रहती थी.
कैद हो गई है मेरी सारी खुशियां मुझ में.
वो मुझे खुद से आजाद नहीं करते.
सारे जमाने को भूल बैठा हूं मैं.
क्योंकि वो अब याद नहीं करते..!!
पानी की चाहत तो आज भी है.
बस वो फरियाद नहीं करते..!!

This is Sunil Gupta, admin of the blog. You can contact me through Facebook, Instagram and Whatsapp: 9716920856 (Ye kisi Ladki ka number nahi hai 😀 :P) for questions and complaints.

Comments

comments

13 Comments

  1. Aj

    Beautiful poem raushan ji…

    Reply
    1. Raushan

      Thanks@AJ ji

      Reply
  2. zainab

    Dil jeet liya raushan.very nice like super se bhi uperrrrrrrrr wali poem h ye.

    Reply
    1. raushan

      Thanks@zanaib
      But itna acha nhi likhta mai..

      Reply
  3. Crazy_R💝han

    🌹दिल 🌹पे 🌹क्या🌹 🌹गुज़री 🌹वो 🌹अनजान 🌹

    क्या 🌹जाने🌹 प्यार 🌹किसे 🌹कहते🌹 है 🌹वो 🌹

    नादान 🌹🌹क्या 🌹जाने 🌹हवा 🌹के 🌹साथ 🌹उड़

    🌹🌹गया 🌹घर 🌹इस🌹 🌹परिंदे 🌹का 🌹कैसे🌹

    बना 🌹था 🌹घोसला🌹 वो 🌹तूफान 🌹क्या🌹 जाने🌹

    Reply
  4. angel

    jajbaton ko labjon me bayan krna asan nahi hota
    unko itni khubsurti se pesh krna sbke bas me nahi hota..

    @@amazing##
    bht achha likha hai apne rausan..

    Reply
    1. Raushan

      Thanks @angel
      But you are also great.
      kyunki aap bahut ache likhte ho..

      Reply
  5. Naina

    osm poem raushan

    Reply
    1. raushan

      Thank you Naina.

      Reply
  6. pooja

    nice poem

    Reply
    1. raushan

      Thnx@pooja

      Reply
  7. Suhana

    Nice……. Poem… Ek shiddat nazar aati h aapki poem me lajawab boht acha lga…. Bye

    Reply
    1. Raushan

      Thanx@suhana

      Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *