माँ-बाप – Sam

वैसे मेरी उमर तो शादी की नही हुई और न ही शादी का विचार अभी मन मे आता है ,
लेकिन एक बात से दिल परेशान हो उठता है
कि आखिर शादी के बाद बच्चों का दिमाग अचानक माँ-बाप के प्रति कैसे बदल जाता है ..
जिसने बचपन मे उंगलियों को पकड़ चलना सिखाया था ,
बिन बोले ही हमारी ज़रूरतों का हर सामान दिलाया था ,
आखिर ऐसी कौन सी वजह है जिससे बच्चे इतने मज़बूर होते है ,
की जिस समय माँ-बाप को उनकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है उस वक़्त वो उनसे दूर होते है ..
हर माँ-बाप का सपना होता है कि उनका बच्चा बड़ा होकर खूब नाम कमाए ,
सिर्फ देश तक ही सीमित न रहे बल्कि उनका नाम रोशन करे और विदेश तक जाए ,
लेकिन उन्हें क्या पता कि ये सपना देखना ही उनकी सबसे बड़ी भूल है,
जिसे समझा था अपने बुढ़ापे का सहारा वो किसी और के साथ अपनी खुशियों  मशगूल है ..
अपना सब कुछ दांव पे लगाकर कुछ माँ-बाप को मैंने बच्चों को पालते देखा है ,
तो माँ-बाप की छोटी-छोटी ज़रूरतों को भी उनके बच्चों द्वारा बड़ी आसानी से मैंने टालते देखा है ..
आखिर क्यों नही समझते है लोग की ये माँ-बाप ही तो घर की आत्मा होते है ,
ये और कोई नही बल्कि धरती पे अवतरित परमात्मा होते है ,
न जाने कोई कैसे इन्हें वृद्धाश्रम छोड़ जाता है ,
आखिर कैसे वो पूरी ज़िंदगी की यादों से मुँह मोड़ जाता है ..
बड़े दुख की बात है कि वृद्धाश्रम की गिनती अब बढ़ती जा रही है ,
रिश्तों की डोर उनकी बूढ़ी हड्डियों संग गलती जा रही है ,
अब भी समय है कि समय रहते सब ठीक हो सकता है ,
बस इतना जान लें हम सब की माँ-बाप में ही ईश्वर बसता है …

This is Sunil Gupta, admin of the blog. You can contact me through Facebook, Instagram and Whatsapp: 9716920856 (Ye kisi Ladki ka number nahi hai 😀 :P) for questions and complaints.

Comments

comments

12 Comments

  1. Prince

    Very True Story.

    Hey there! It’s me, Prince here. I feel myself so lonely because, I don’t have any friends. If Any Boy or Girl, Who needs A Good & Faithful Friend and Would like to Friendship with me? So, Please WhatsApp/Message me on +919199007192. Only Serious Persons are allowed, Arrogant People & Time-Passers Stay Away.

    Reply
  2. Aj

    Sam aapne maa baap k barae me bahoth acha likha hai..
    Aapki har ek line me sachai hai…
    Patha ni ab kuch log aapne parents ko time nahi de pathe hai …jo maa baap aapne Bachoo k khushiye k khatir aapni khushiya thak khurban kiya vo bache bade hokae unko thoda sa waqt nahi de pathe thoda pyar nahi de pathe…
    Jo financial stable hai vo log aapne parents ko old age home me dalthe hai…
    Jo financial stable nahi vo unko gharse bahar nikal Dete hai…
    Kya zamana agaya hai…
    Sorry sam bahoth boldiye…
    N tq very much maa baap k barae likhne k liye tq very much…

    Reply
    1. Sam

      Thnku so much AJ
      Ar apne,jo v kha bilkul shi kha apne kch v jyda nh bola sbhi bat achhi boli h

      Reply
  3. Maahi

    Beautifully written by u sam really superb👏👏

    Reply
    1. Sam

      Thnku mahii

      Reply
  4. Amaya khan

    Well done sam
    Apne bilkul correct line likhi h .Ammi Papa se bdh kr koi nhi hota hai jitna Hume humare parents pyar krte h utna koi bhi nhi kr skte .is bat ko kbhi nhi bhulna cahiye hume

    Reply
    1. Sam

      Thnku Amaya jii

      Reply
  5. Naina

    right aasu
    apki ek ek word sahi h
    osm line
    kash sabko ye bat achhe se samjh aa jye
    maa baap hi h Jo humare khushiyo ke karan h
    or hum unki khushiya na chhine old age home na chhore

    Reply
  6. Sam

    Shi kha Ashi….Aise log apni life me kvi khus nh rh skte

    Reply
  7. surander singh

    nice sam bro

    Reply
  8. Sam

    Thnks dude

    Reply
  9. suhana

    kutte sam tere abba ne kavi poem likhi h

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *